Tuesday, August 30, 2011

कसौटी


एक संभ्रांत नागरिक 
पास खड़ी
मैली कुचैली /काली कलूटी
महिला की प्रशंसा कर रहा था
यह
मेरी /सबसे छोटी पुत्र वधु है
बहुत ही सुशील है /बहुत ही सुंदर है
बहुत ही साफ़ सुथरी है
पास खड़े हुए / एक सज्जन ने कहा
लगता है
जरुर
दहेज़ की कसौटी पर खरी उतरी है .
                                       "चरण"

No comments:

Post a Comment