Saturday, February 25, 2012

मुझे जाना है

मुझे सब छोड़ कर मेरे प्रभु के पास जाना है
मुझे मत रोकना मुझको मेरा वादा निभाना है
तेरी चालों में ऐ शैतान अब मैं फंस नहीं सकता
तू कितना फन उठाले किन्तु मुझको डस नहीं सकता
तेरे फन को कुचल कर अब मुझे उस पर जाना है
मुझे मत रोकना मुजको मेरा वादा निभाना है
वो मेरे हर गुनाह और घाव पर मरहम लगता है
मै ठोकर खा के गिरता हूँ तो वह आकर उठाता है
उसी के सामने जाकर यह सिर अपना झुकाना है
मुझे मत रोकना मुझको मेरा वादा निभाना है
मै दुनिया के झमेलों में कहीं पर खो गया था
प्रभु की ओर से आँखें चुरा कर सो गया था
मुझे फिर से वही खोया हुआ विश्वास पाना है
मुझे मत रोकना मुझको मेरा वादा निभाना है
वो इतना दींन है मेरा ही रस्ता देखता होगा
वो अपने आंसुओं को आँख में ही रोकता होगा
मुझे जाकरके उसके आंसुओं में डूब जाना है
मुझे मत रोकना मुझको मेरा वादा निभाना है .
                                                 "चरण"

No comments:

Post a Comment